Actor बनने के लिए स्कूल की किताबें बेची, Ajit ऐसे बने बॉलीवुड के मशहूर विलेन

Bollywood Actor Ajit Khan Biography, Age, Wife & More: अजीत खान (Ajit) को बॉलीवुड के मशहूर विलेन्स में गिना जाता है. वे फिल्मों में अपने अलग अंदाज और डायलॉग डिलीवरी के लिए जाने जाते हैं. अजीत का असली नाम हामिद अली ख़ान था. एक समय था जब वे फिल्मों में एक्टर बनने की ख्वाहिश लेकर आए थे.

लेकिन उन्होंने जितने भी फिल्मों में मुख्य अभिनेता के तौर पर काम किया वे सभी फ्लॉप रही. जिसके बाद उन्होंने विलेन का रोल करने शुरू किया. लेकिन ‘कालीचरण’ फिल्म उनके करियर में मील का पत्थर साबित हुई. इस फिल्म के बाद से ही उन्हें लोगों द्वारा घर-घर पहचाना जाने लगा.

Ajit Khan

इस फिल्म में उनका एक डायलॉग काफी लोकप्रिय हुआ. यह डायलॉग था, ‘सारा शहर मुझे लायन के नाम से जानता है’ उनकी इस बेहतर डायलॉग डिलीवरी के लिए उन्हें काफी लोकप्रियता हासिल हुई.

हालांकि इस मुकाम तक पहुंचने के लिए उन्हें खूब संघर्ष करना पड़ा. अजीत बचपन से ही अभिनेता बनना चाहते थे और यह जुनून उनके सिर पर ऐसे सवार था कि इस मुकाम तक पहुंचने के लिए वे अपनी स्कूल की किताबें बेचकर मुंबई चले आए.

ये भी पढ़ें- 5 एक्ट्रेस से Shehnaaz Gill की कैटफाइट, एक की वजह से करना चाहती थीं सुसाइड

मुंबई आने के बाद उन्हें रहने की कोई जगह नहीं मिली सिर छुपाने के लिए वे सीमेंट के पाइप में रहने लगे. पाइप पर रहना भी काफी मुश्किलों भरा था क्योंकि वहां आसपास रहने वाले लोकल गुंडे सभी से हफ्ता वसूल किया करते थे. एक दिन अजीत से भी उन गुंडों का पाला पड़ा. हालांकि उन्होंने उल्टा गुंडों को ही पीट दिया और तब से गुंडे उनसे डरने लगे.

Ajit

उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 1940 में की. करियर के शुरुआती दौर में उन्होंने हीरो के तौर पर कई फिल्में की. हालांकि यह सभी फिल्में फ्लॉप रही, इससे निराश होकर उन्होंने विलन का रोल करना शुरू किया और 1966 में राजेंद्र कुमार की फिल्म सूरज से उन्होंने विलेन के रूप में अपने करियर की शुरुआत की.

अपने करियर के दौरान उन्होंने 200 से ज्यादा फिल्मों में काम किया जिनमें जंजीर, प्रिंस, जीवन मृत्यु, खोटे सिक्के आदि शामिल है.
फिल्मों के जरिए लोगों का मनोरंजन करने वाले अजीत ने 22 अक्टूबर 1998 को दुनिया को अलविदा कह दिया.

सोर्स- एशियान्यूजनेट

error: Content is protected !!