क्या सरकार से मदद पाने के लिए अब वायरल होना पड़ता है? चायवाले छोटू को भी वायरल करो

नोएडा के रनिंग ब्वॉय के नाम से मशहूर हो चुके प्रदीप मेहरा (Pradeep Mehra) दो दिन से हर तरफ सुर्खियों में हैं. प्रदीप के वायरल होने के बाद. अब यूपी सरकार ने मदद के लिए हाथ बढ़ाया है. प्रदीप मेहरा से गौतमबुद्धनगर के डीएम सुहास एलवाई ने मुलाकात करी है. डीएल ने प्रदीप और उसके भाई से 20 मिनट तक बात की. डीएम इस मुलाकात में जानना चाहते थे कि प्रदीप की आर्थिक स्थिती कैसी है.

प्रदीप मेहरा ने बताया है कि जैसे ही मैं वायरल हुआ उसके बाद कई कॉलेज ने मुझे फ्री में एडमिशन देने की बात करी. मगर डीएम ने उनसे कहा कि वो प्रदीप को बताएंगे कि कौन सा कॉलेज सही है उनके लिए. साथ ही वो प्रदीप की करियर काउंसलिंग भी करवाएंगे.

इसके अलावा डीएम ने प्रदीप की मां बीना मेहरा का इलाज करवाने की बात कही है. आपको बताते चलें कि डीएम सुहास एलवाई खुद भी एक ओलंपिक पदक जीत चुके हैं. डीएल ने प्रदीप की रनिंग की तारीफ की.

हालांकि इससे एक बात और उभर कर आ रही है कि क्या प्रशासन की निगाह में आने के लिए अब वायरल होना पड़ेगा? क्योंकि हमारे देश में ऐसे कई लोग है जो पढ़ाई तो करना चाहते हैं मगर आर्थिक हालात के वजह से नहीं कर पाते उनकी मदद सरकार कब करेगी? ऐसे कई छोटू आपको चाय की दुकान या होटलों पर काम करते हुए दिखाई देंगे.

error: Content is protected !!